Gaay Ke Sath Na Kare Ye Galti:  हिंदू धर्म में गाय को पूजनीय माना गया है. गाय को मां का दर्जा दिया दाता हैष ऐसा माना जाता है गाय के हंजारों करोड़ों देवी-देवताओं का वास होता है. किसी भी शुभ कार्य में शुद्धि के लिए गाय के घी, गोबर या गौमूत्र का इस्तेमाल किया जाता है. हिन्दू धार्मिक दृष्टि से भी गाय पवित्र मानी जाती रही है तथा उसकी हत्या महापातक पापों में की जाती है. इसके अलावा गाय (Gaay Ke Sath Bhulkar Bhi Na Kare Yeh Kam)के साथ खराब बर्ताव भी काफी अशुभ माना जाता है. आइए जानते हैं आपको गाय के साथ कैसा बर्ताव नहीं करना चाहिए.Also Read - इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- केंद्र सरकार गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करे, गौरक्षा हिन्दुओं का मौलिक अधिकार

गाय के साथ मारपीट- गाय को मां का दर्जा प्राप्त है ऐसे में गाय को कभी भी मारना नहीं चाहिए. गाय को मारने पीटने वाला माता को मारने पीटने वाले के समान पाप का भागी माना गया है. दो लोग ऐसा करते हैं उन्हें कष्ट का सामना करना पड़ता है. ऐसे लोगों को अगले जन्म पशु योनी में जन्म मिलता है. Also Read - Cow Drinks Liquor Viral News: पानी समझकर शराब पी गईं गायें, फिर जो हुआ उसे जान दंग रह गए लोग

पानी पी रही गाय को भगाना- जो लोग पानी पी रही गाय को भगाते हैं वह पाप के भागीदार बनते हैं. ऐसे लोग नरक में जाते हैं. इसके अलावा जो लोग गाय के लिए प्याऊ और चारागाह बनवाते हैं वह महाभाग्यवान होते हैं. ऐसे लोगो स्वर्ग में जाते हैं. Also Read - बछड़े को बचाने के लिए कुएं में उतरे 5 लोग, सभी की मौत, बछड़ा जिंदा बचा

आराम कर रही गाय को उठाना- जो व्यक्ति आराम कर रही गाय को उठाता है वह पाप का भागीदार बनता है. और अगले जन्म में उसे दर-दर भटकना पड़ता है. बता दें कि जिस स्थान पर गाय बैठती है वहां से नकारात्मक ऊर्जा समाप्त हो जाती है.

गाय को दूध बछड़े के लिए ना बचाना- कुछ लोग एक बार गाय को दुह लेने के बाद फिर से बछड़े के लिए बचा हुआ दूध भी दुह लेते हैं, ऐसा करना घोर पाप कहा गया है. ऐसे दूध को दुहने वाला और ग्रहण करने वाला दोनो ही पाप के भागी बनते हैं.