इंग्लिश बल्लेबाज ओली पोप (Ollie Pope) ने अपने घरेलू मैदान केनिंग्टन ओवल पर अर्धशतक के साथ टेस्ट क्रिकेट में वापसी की। भारत के खिलाफ ओवल टेस्ट के दूसरे दिन 81 रनों की शानदार पारी खेलने वाले पोप ने कहा कि उन्होंने सही लोगों पर भरोसा करके ‘निराशाजनक चीजों’ को नजरअंदाज करना सीख लिया है।Also Read - पूर्व इंग्लिश गेंदबाज का दावा- मौजूदा भारतीय टीम साल 2000 की ऑस्‍ट्रेलियाई टीम जैसी मजबूत

जनवरी 2020 में दक्षिण अफ्रीका में अपना पहला शतक बनाने वाले पोप सीरीज के शुरुआती तीन टेस्ट से बाहर रहे थे। लेकिन चौथे टेस्ट में पोप को विकेटकीपर बल्लेबाज जॉस बटलर की जगह प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया है। पोप ने इस मौके का फायदा उठाते ओवल टेस्ट की पहली पारी के दौरान 62 रन पर इंग्लैंड के पांच विकेट गिरने के बाद जॉनी बेयरस्टॉ और फिर मोईन अली के साथ अर्धशतकीय साझेदारी बनाकर 290 रन का स्कोर खड़ा करने में मदद की। Also Read - Rohit Sharma Injury Update: हिटमैन ने दिया चोट को लेकर अपडेट, क्‍या मैनचेस्‍टर में होंगे प्‍लेइंग-11 का हिस्‍सा ?

पोप ने कहा, ‘‘ये कठिन (टीम से अंदर-बाहर होना) है, मुझे लगा कि ये कभी-कभी निराशाजनक होता है। ईमानदारी से कहूं तो ये सीखने का मौका है। मैंने सीखा है कि निराशाजनक बातों से कैसे निपटना है।  मैं दूसरी बातों को नजरअंदाज कर अपने खेल को लेकर जितना हो सके उतना आश्वस्त होना चाहता हूं।’’ Also Read - INDvsENG : जहीर खान ने उठाए सवाल- जब गेंदबाजों को बदला जा सकता है तो बल्‍लेबाजों को क्‍यों नहीं ?

उन्होंने कहा, ‘‘आपको उन लोगों की बात सुननी होगी जिन पर आप भरोसा करते हैं और जिन से आपको सबसे अच्छी सलाह मिल रही है। खिलाड़ियों के रूप में बहुत तरह की बातें सुननी होती है,  इंग्लैंड के लिए खेलने के दौरान हमेशा ऐसा होगा। इसलिए ये सही लोगों और उन लोगों को सुनने की कोशिश करने के बारे में है जिन पर आप सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं।’’

अगस्त 2020 में पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे टेस्ट के दौरान अपने कंधे की चोट को याद करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ये अब तक एक ‘स्टॉप-स्टार्ट (रुकावट से भरा)’ करियर रहा है। मैंने लगभग चार साल पहले अपनी शुरुआत की थी। इस दौरान कई बार टीम से अंदर-बाहर होता रहा हूं और कंधे के ऑपरेशन भी हुए हैं।’’

कंधे की इस चोट के कारण उन्हें लगभग चार महीने तक खेल से दूर रहना पड़ा था। ओवल के मैदान पर पोप की बल्लेबाजी औसत 19 पारियों में 101.8 की है और वह भारत के खिलाफ शतक पूरा करने से चुकने के कारण निराश है।

उन्होंने कहा, ‘‘ये मेरे घरेलू मैदान पर पहला टेस्ट है और मेरे लिए वास्तव में एक खास मौका है। आप अपने घरेलू मैदान पर खचाखच भरे दर्शकों के सामने शतक लगाने का सपना देखते हैं। उम्मीद है कि मुझे भविष्य में कुछ और मौके मिलेंगे लेकिन अभी के लिए मुझे टीम को अच्छी स्थिति में लाने में योगदान देने में खुशी हो रही है।’’