Afghanistan Crisis: काबुल को हथियाने और अफगानिस्तान में सत्ता पर काबिज तालिबान ने शुक्रवार को दावा किया है कि उसने पंजशीर घाटी पर भी कब्जा जमा लिया है. उसके लड़ाकों ने वहां जीत का जश्न भी मनाया है और नॉदर्न एलाएंस के नेता अहमद मसूद पंजशीर छोड़कर भाग गए हैं. इसकी जानकारी समाचार एजेंसी रायटर्स ने तालिबान के तीन सूत्रों के हवाले से दी है. हालांकि फिलहाल इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं हो पा रही है. बता दें कि पंजशीर में तालिबान के खिलाफ अहमद मसूद और पूर्व उपराष्ट्रपति अब्दुल्लाह सालेह की अगुवाई में रेजिस्टेंस फोर्स लड़ाई कर रही थी.Also Read - Taliban Rule First Look Viral: तालिबानी शासन की पहली तस्वीर वायरल, कॉलेज में लड़के-लड़कियों के बीच लगाया गया पर्दा और...

तालिबान के पंजशीर जीत के दावे पर अहमद मसूद ने कहा है कि ‘पजंशीर में उनकी जीत, पंजशीर में मेरा आखिरी दिन होगा, इंशाल्लाह.’ उन्होंने पंजशीर घाटी पर तालिबानी कब्जे के दावे को सिरे से नकार दिया है.  अहमद मसूद के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया, ‘पंजशीर पर जीत की खबरें पाकिस्तानी मीडिया में घूम रही हैं. यह एक झूठ है और पंजशीर पर उनकी जीत पंजशीर में मेरा आखिरी दिन होगा, इंशाअल्लाह.’ Also Read - Afghanistan Crises Update: Taliban ने पूरे पंजशीर प्रांत में कब्‍जे का दावा किया, NRF ने बताया झूठा

अमरुल्लाह सालेह ने भी जारी किया वीडियो 
इस बीच अफगानिस्तान के अपदस्थ उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने वीडियो जारी कर कहा है कि वे कहीं नहीं भागे हैं. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में उनके घायल होने और पंजशीर से भागने की अफवाह फैलाई जा रही है. हालांकि, मैं अब भी पंजशीर में अपने लोगों के साथ हूं और लगातार बैठकें कर रहा हूं. उन्होंने इसका वीडियो भी जारी किया और कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि हम एक मुश्किल स्थिति में हैं और हम तालिबान द्वारा आक्रमण को झेल रहे हैं. Also Read - Afghanistan: Panjshir Resistance ने संघर्ष विराम का आह्वान किया, तालिबान ने की वापसी

पंजशीर जीतना तालिबान के लिए है टेढ़ी खीर
जब से तालिबान ने अफगानिस्तान पर नियंत्रण किया है, तभी से पंजशीर घाटी में विद्रोही लड़ाके जुटना शुरू हो गए हैं. बताया जा रहा है कि इनमें सबसे ज्यादा संख्या अफगान नेशनल आर्मी के सैनिकों की है. इस गुट का नेतृत्व नॉर्दन एलायंस ने चीफ रहे पूर्व मुजाहिदीन कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद कर रहे हैं. उनके साथ पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह और बल्ख प्रांत के पूर्व गवर्नर की सैन्य टुकड़ी भी है.

तालिबान के एक कमांडर ने कहा कि, ‘अल्लाह की दुआ से हमने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया है. मुश्किल पैदा करने वाले हार गए और अब पंजशीर हमारे कब्जे में है. बता दें कि इससे पहले भी तालिबान ने दावा किया था कि उसके लड़ाकों ने पंजशीर के काफी बड़े हिस्से पर अपना कब्जा कर लिया है. तब पंजशीर के लड़ाकों ने इस दावे को खारिज कर दिया था.

आज अफगानिस्तान में होगा नई सरकार का गठन

अफगानिस्तान में नई सरकार का गठन शनिवार को किया जाएगा. तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद के अनुसार नई सरकार का ऐलान आज किया जाना है. रायटर्स ने पहले बताया था कि मुल्ला बरादर के हाथ में अफगानिस्तान की सत्ता होगी. इसके अलावा तालिबानी सरकार में अहम पद पाने वालों में समूह के फाउंडर मुल्ला उमर के बेटे मुल्ला मोहम्मद याकूब और शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई का नाम शामिल है.